• मुख्य सामग्री पर जाएं /
  • स्क्रीन रीडर का उपयोग

प्रेस विज्ञप्ति

डॉ. बी.आर. आम्बेडकर जयंती की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति की बधाई

राष्ट्रपति भवन : 13.04.2018

भारत के राष्ट्रपति, श्री राम नाथ कोविन्द ने डॉ. बी.आर. आम्बेडकर जयंती की पूर्व संध्या पर देशवासियों को बधाई दी है।

एक संदेश में,राष्ट्रपति ने कहा है, ‘‘डॉ. बी.आर. आम्बेडकर जी की जयंती के अवसर पर मैं उन्हें नमन करता हूं और अपने सभी देश-वासियों को हृदय से बधाई देता हूं। डॉ. आम्बेडकर बहु-आयामी व्यक्तित्व के धनी थे। हमारे समाज और राष्ट्र पर उनका प्रभाव प्रासंगिक रहा है और आगे भी बना रहेगा। वे एक शिक्षाविद्,अर्थशास्त्री, असाधारण विधिवेत्ता और संविधानवादी थे। सबसे बढ़कर,वे समाज-सुधार तथा महिलाओं को उसके उचित अधिकार दिलाने के लिए संघर्ष करने वाले और स्वतंत्रता के समर्थक थे।

डॉ. आम्बेडकर ने, एक बेहतर और न्यायपूर्ण समाज के लिए,जाति एवं अन्य पूर्वाग्रहों से मुक्त आधुनिक भारत के लिए,महिलाओं और पारंपरिक रूप से पिछड़े समुदायों हेतु समान आर्थिक और सामाजिक अधिकार सुनिश्चित करने के लिए जीवन-भर संघर्ष किया। उनके आदर्शों की और कानून के शासन में उनके विश्वास की सर्वाधिक प्रभावशाली अभिव्यक्ति संविधान सभामें देखने को मिलती है। इसलिए यह सर्वथा उचित ही है कि उन्हें हमारे संविधान का मुख्य निर्माता माना जाता है। यह संविधान,भारत गणतंत्र के लिए अभी भी प्रकाश-स्तंभ बना हुआ है।

डॉ. आम्बेडकर ने, अपने सामने आई व्यक्तिगत चुनौतियों के बावजूद,अपने हृदय में विद्वेष और नाराज़गी पनपने नहीं दी। अपनी इस खूबी के कारण और अपने अनेक सामाजिक,राजनीतिक एवं व्यवसायगत योगदानों के कारण वे अभी भी हमारे लिए प्रेरणा का स्रोत बने हुए हैं। वे पूरी दुनिया के लिए मानवीय स्वाधीनता तथा व्यक्तिगत गरिमा के प्रतीक के रूप में हमारी स्मृति में बसे हुए हैं। यह बहुत महत्वूपर्ण है कि हम डॉ. अंबेडकर के व्यक्तित्व का और उनकी शिक्षाओं का मूल्यांकन टुकड़ों में न करके,उसके सभी आयामों में करें।

हमें, इतिहास की इस महान विभूति और माहन भारतीय व्यक्तित्व से प्रेरणा लेनी चाहिए। उनके प्रति हमारी सर्वोत्तम श्रद्धांजलि यही होगी कि हम एक ऐसा भारत बनाएं जो निष्पक्ष हो,समतावादी हो और विकसित हो- ऐसा भारत बनाएं जो डॉ. अंबेडकर द्वारा तराशे गए गणतंत्रवादी लोकाचार की उस कसौटी पर खरा उतरे जो उन्होंने हमारे लिए और आने वाली पीढि़यों के लिए तैयार किया था।’’

यह विज्ञप्ति1620बजे जारी की गई।

Go to Navigation